• Patna College Celebrates 150th Glory
  • Patna City Bandh Against Hooch Tragedy
  • Mahatma Statue Comes To Patna
  • Patna Celebrates New Year
  • Dozens Fined For Tinted Glass
  • Patna Unites Against Rape
  • Astrologers Congregates At Patna
  • Governor Awards Degree To MMHU Toppers
  • British Forces Under Buddha Tutelage
  • Dilli Haat In Patna Soon

Fifteen more Plant at Sudha Dairy Inauguarated

Patna
Fifteen more Plant at Sudha Dairy Inauguarated
December 21, 2011

सूबे में होगी इंद्रधनुषी क्रांति- नीतीश-- पटना डेयरी प्रोजेक्ट में आयोजित हुआ दुग्ध दिवस समारोह-- आज ही के दिन सर्वप्रथम पटना शहर में दूध पाउच में जारी किया गया था।-- समारोह में उप-मुख्यमंत्री, पशुपालन मंत्री, खाध आपूर्ति मंत्री समेत काँम्फेड के अधिकारी हुए शामिल।-- दो हजार किसानों के बीच २० करोड़ की राशि के चेक वितरित-- सीएम ने रिमोट से १५ विभिन्न प्लांटो का किया उदघाटन।-------------------------------------------------------------------------------------------------फुलवारीशरीफ (एसएनबी) । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कह कि इंद्रधनुषी क्रांति बिहार से शुरू होगी। राज्य के चहुंमुखी विकाश के लिए कृषि का संपूर्ण विकास जरुरी है। देश में तो हरित क्रांति की गई थी लेकिन बिहार में इंद्रधनुषी क्रांति होगी। कृषि के ‍छेत्र में सात क्रांति की जरूरत है।    दूध के उतपादन के छेत्र में श्वेत क्रांति बढी है। ११ लाख लीटर पर ही संतोष नही करना है, हमें १ करोड़ लीटर दूध उत्पादन के लछ्य को छूना है। इतना ही नही, बल्कि अमूल से भी आगे सुधा ब्रांड को ले जाने की सोचिए। सरकार आपके साथ है। सरकार की ओर से पशुपालकों को ५० फीसदी सब्सिडी दी गयी है। उन्होंने कहा कि मिल्क प्लांट नहीं मिल्क पाउडर प्लांट लगाने की कीजिए। छमता के विकास का प्रयास कीजिए तभी जाकर सचमुच सप्तक्रांति का सपना पूरा हौगाय़ कृषि से जुड़े संसाधनों जैसे पशुपालन, सिंचाई, उन्नत नस्ल के मवेशी आदि को विकसित करना है। मुख्यमंत्री ने सुधा डेयरी के विषय में कहा कि जब बिहार में कुछ भी नहीं हो रहा था तब भी सुधा का काम बढ़ रहा था। लोकतांत्रिक तरीके से सहकारिता बनाकर उसके माध्यम से  किसानों की समितियां बनाकर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि का कार्य कर रहा था। य़ही वजह है कि इस कारोबार में किसानों की रूचि बढी और उत्पादन ११ लाख लीटर तक पहुँच गया। उन्होंने कहा कि हर हिन्दुस्तानी की थाली में कम से कम एक बिहारी व्यंजन बिहारी हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि अमूल कैसे शिखर पर पहुँचा है. सोचिए। सरकार अगले दस वर्षों  के लिए नये रोड मैप का निर्माण कर रही है, जिसमें दूध ही नहीं, पशुपालन, कृषि आदि को भी शामिल किया गय

सूबे में होगी इंद्रधनुषी क्रांति- नीतीश-- पटना डेयरी प्रोजेक्ट में आयोजित हुआ दुग्ध दिवस समारोह-- आज ही के दिन सर्वप्रथम पटना शहर में दूध पाउच में जारी किया गया था।-- समारोह में उप-मुख्यमंत्री, पशुपालन मंत्री, खाध आपूर्ति मंत्री समेत काँम्फेड के अधिकारी हुए शामिल।-- दो हजार किसानों के बीच २० करोड़ की राशि के चेक वितरित-- सीएम ने रिमोट से १५ विभिन्न प्लांटो का किया उदघाटन।-------------------------------------------------------------------------------------------------फुलवारीशरीफ (एसएनबी) । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कह कि इंद्रधनुषी क्रांति बिहार से शुरू होगी। राज्य के चहुंमुखी विकाश के लिए कृषि का संपूर्ण विकास जरुरी है। देश में तो हरित क्रांति की गई थी लेकिन बिहार में इंद्रधनुषी क्रांति होगी। कृषि के ‍छेत्र में सात क्रांति की जरूरत है।    दूध के उतपादन के छेत्र में श्वेत क्रांति बढी है। ११ लाख लीटर पर ही संतोष नही करना है, हमें १ करोड़ लीटर दूध उत्पादन के लछ्य को छूना है। इतना ही नही, बल्कि अमूल से भी आगे सुधा ब्रांड को ले जाने की सोचिए। सरकार आपके साथ है। सरकार की ओर से पशुपालकों को ५० फीसदी सब्सिडी दी गयी है। उन्होंने कहा कि मिल्क प्लांट नहीं मिल्क पाउडर प्लांट लगाने की कीजिए। छमता के विकास का प्रयास कीजिए तभी जाकर सचमुच सप्तक्रांति का सपना पूरा हौगाय़ कृषि से जुड़े संसाधनों जैसे पशुपालन, सिंचाई, उन्नत नस्ल के मवेशी आदि को विकसित करना है। मुख्यमंत्री ने सुधा डेयरी के विषय में कहा कि जब बिहार में कुछ भी नहीं हो रहा था तब भी सुधा का काम बढ़ रहा था। लोकतांत्रिक तरीके से सहकारिता बनाकर उसके माध्यम से  किसानों की समितियां बनाकर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि का कार्य कर रहा था। य़ही वजह है कि इस कारोबार में किसानों की रूचि बढी और उत्पादन ११ लाख लीटर तक पहुँच गया। उन्होंने कहा कि हर हिन्दुस्तानी की थाली में कम से कम एक बिहारी व्यंजन बिहारी हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि अमूल कैसे शिखर पर पहुँचा है. सोचिए। सरकार अगले दस वर्षों  के लिए नये रोड मैप का निर्माण कर रही है, जिसमें दूध ही नहीं, पशुपालन, कृषि आदि को भी शामिल किया गय